تطبيق البطاقات الدعوية هو أحد تطبيقات لجنة الدعوة الإلكترونية إحدى لجان جمعية النجاة الخيرية.
الرئيسية » मुहम्मद अल्लाह के पैगंबर » इत्तिबा-ए-सुन्नत और तक़लीद से संबंधित एक बात-चीत

इत्तिबा-ए-सुन्नत और तक़लीद से संबंधित एक बात-चीत

इत्तिबा-ए-सुन्नत और तक़लीद से संबंधित एक बात-चीत

نبذة عن الكتاب: इत्तिबा-ए-सुन्नत और तक़लीद से संबंधित यह एक बात-चीत है जो एक शांतिपूर्ण वातावरण में अब्दुल्लाह और अहमद नामी दो व्यक्तियों के बीच हुई है। जिस में यह स्पष्ट किया गया है कि रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की सुन्नत का इत्तिबा करना ही असल दीन है, तथा तक़लीद का खण्डन किया गया है और उस से उपेक्षा करने पर बल दिया गया है। حوار هادئ حول الاتباع والتقليد جرى بين شخصين، عبد الله وأحمد: تناول الحوار الحديث عن وجوب اتباع سنة النبي - صلى الله عليه وسلم

عدد الزيارات للكتاب: 2185

مرات تحميل الكتاب: 363

इत्तिबा-ए-सुन्नत और तक़लीद से संबंधित एक बात-चीत

इत्तिबा-ए-सुन्नत और तक़लीद से संबंधित यह एक बात-चीत है जो एक शांतिपूर्ण वातावरण में अब्दुल्लाह और अहमद नामी दो व्यक्तियों के बीच हुई है। जिस में यह स्पष्ट किया गया है कि रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की सुन्नत का इत्तिबा करना ही असल दीन है, तथा तक़लीद का खण्डन किया गया है और उस से उपेक्षा करने पर बल दिया गया है। حوار هادئ حول الاتباع والتقليد جرى بين شخصين، عبد الله وأحمد: تناول الحوار الحديث عن وجوب اتباع سنة النبي – صلى الله عليه وسلم

इत्तिबा-ए-सुन्नत और तक़लीद से संबंधित यह एक बात-चीत है जो एक शांतिपूर्ण वातावरण में अब्दुल्लाह और अहमद नामी दो व्यक्तियों के बीच हुई है। जिस में यह स्पष्ट किया गया है कि रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की सुन्नत का इत्तिबा करना ही असल दीन है, तथा तक़लीद का खण्डन किया गया है और उस से उपेक्षा करने पर बल दिया गया है। حوار هادئ حول الاتباع والتقليد جرى بين شخصين، عبد الله وأحمد: تناول الحوار الحديث عن وجوب اتباع سنة النبي - صلى الله عليه وسلم

Review Overview

User Rating: Be the first one !
85

اترك تعليق

البريد الالكتروني لا ينشر. حقول مطلوبة *

*